Select your Language: हिन्दी
MaharashtraWorld

UN महासचिव ने आतंकरोधी कार्यों में भारत के सहयोग की तारीफ की

UN महासचिव ने आतंकरोधी कार्यों में भारत के सहयोग की तारीफ की

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने यूएन के आतंकवाद रोधी कार्यों में भारत के सहयोग की सराहना की है. उन्हाेंने कहा, मैं यूएन के आतंक रोधी कार्य में भारत, जापान, सऊदी अरब और कतर की ओर से किए जा रहे सहयोग की सराहना करता हूं. उन्हाेंने संयुक्त राष्ट्र आतंकवादी यात्रा रोकथाम कार्यक्रम शुरू करने के दौरान कहा कि इस्लामिक स्टेट (IS) से भाग रहे आतंकवादियों का पता लगाना बहुत जरूरी है.

हमले से पहले ही आतंकियों को रोकना बड़ी प्राथमिकता 

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने किसी भी आतंकी हमले को अंजाम देने से पहले ही आतंकियों को रोकने और पकड़ने को अंतरराष्ट्रीय समुदाय की सबसे बड़ी प्राथमिकता बताया. बता दें कि ईस्टर पर श्रीलंका में हुए आत्मघाती हमलों के करीब दो हफ्ते बाद संयुक्त राष्ट्र ने यह नया कार्यक्रम शुरू किया है. इन हमलों की जिम्मेदारी आईएस ने ली थी.

सदस्य देशों में आतंक से निपटने की क्षमता बढ़ाएगा कार्यक्रम 

गुटेरस ने कहा कि यह कार्यक्रम आतंकवाद रोधी अंतरराष्ट्रीय सहयोग मजबूत करने, आतंकवादियों का पता लगाने, उनकी पहचान करने, उन्हें रोकने, न्याय के कठघरे में लाने के लिए बहुपक्षीय नेटवर्क को विस्तार देने में मदद करेगा. साथ ही आतंकवाद से सबसे ज्यादा प्रभावित सदस्य देशों में इस खतरे से निपटने की क्षमता सुनिश्चित करने में मदद करेगा.

आईएस की हार के बाद लौट रहे आतंकी ढूंढ रहे हैं पनाह 

आईएस की शिकस्त के बाद कई आतंकी स्वदेश लौटने, सुरक्षित पनाहगाहों या दुनिया के संकटग्रस्त हिस्सों में जाने की कोशिश कर रहे हैं. इनमें कई प्रशिक्षित आतंकी हैं. वे भविष्य में आतंकी हमलों को अंजाम दे सकते हैं. वहीं, ये आतंकी कट्टरपंथ फैलाने और अपने उद्देश्य के लिए नए साथियों की भर्ती भी कर सकते हैं. लिहाजा, किसी हमले को अंजाम देने से पहले इन आतंकवादियों का पता लगाना अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए सबसे बड़ी प्राथमिकता है.

Related Articles

Back to top button