Select your Language: हिन्दी
India

अगर कोरोना वायरस की वजह से ट्रेन होती है कैंसल, तो जाने आईआरसीटीसी के इससे जुड़े चार्जेस के नियम

अगर कोरोना वायरस की वजह से ट्रेन होती है कैंसल, तो जाने आईआरसीटीसी के इससे जुड़े चार्जेस के नियम

नई दिल्ली. कोरोनावायरस को रोकने के लिए भारत सरकार हर जरुरी कदम उठा रही है. इसी वजह से सेंट्रल रेलवे ने कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है. साथ ही 250 स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट का दाम बढ़ाकर 10 रुपये से 50 रुपये कर दिया है. इसके अलावा ट्रेन के एसी कोच से कंबलों को हटा दिया गया है. इसी बीच अब लोगों में भी Corona का डर बढ़ रहा है. जिस वजह से यात्री अपनी बुक टिकट कैंसिल करा रहे हैं.

अगर आप भी अपनी कोई यात्रा को टालना चाहते हैं और ट्रेन टिकट रद्द करना चाहते हैं तो आपको कैंसलेशन से जुड़े चार्जेज की जानकारी होना बहुत जरूरी है. क्योंकि इससे आपके पैसे भी बचेंगे.. चार्ट बनने से पहले तक ग्राहक अपने रेल टिकट कैंसल करा सकते हैं. आइए जानते हैं रेलवे ट्रेन टिकट कैंसल करने पर ग्राहकों से कितने रुपये लेता हैः

>> ट्रेन के डिपार्चर के लिए निर्धारित समय से 48 घंटे पहले तक

>> ट्रेन चलने से 48 घंटे पहले टिकट कैंसल कराने पर स्लीपर क्लास के टिकट पर प्रति पैसेंजर 120 रुपये का चार्ज रेलवे वसूलता है.

>> एसी थर्ड टियर पर यह चार्ज 180 रुपये का है.

>> वहीं, इस अवधि तक अगर आप एसी सेकेंड टियर का टिकट कैंसल कराते हैं तो प्रति पैसेंजर 200 रुपये का चार्ज लगता है.>> एसी फर्स्ट क्लास का टिकट कैंसल कराने पर 240 रुपये का कैंसलेशन चार्ज लगता है.

12 घंटे पहले तक कर सकते हैं टिकट कैंसिल

अगर आप लेट से टिकट कैंसलेशन के बारे में सोच रहे हैं तो आपके लिए यह जानना जरूरी है कि ट्रेन के चलने से 12 घंटे पहले तक किराये का 25% तक का चार्ज रेलवे वसूलता है. वहीं, 12 घंटे से लेकर चार्ट बनने से पहले अगर आप टिकट कैंसल करते हैं तो आपको किराये का 50 फीसद तक कैंसलेशन चार्ज के रूप में देना पड़ सकता है.

Related Articles

Back to top button