Select your Language: हिन्दी
Education

इस टेक्नोलॉजी से मिलेगी कोरोना वायरस को मात, भारत में भी चल रही है जबर्दस्त तैयारी

नई दिल्ली. चीन में पहली बार सामने आने वाले कोरोना वायरस ने दुनिया के एक बड़े हिस्से को अपनी जद में ले लिया है. कई देशों में इसके कहर ने रोजमर्रा के जीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है. लेकिन जिस चीन से इस कोरोना वायरस (COVID-19) की शुरुआत हुई है, उसी चीन से अब इसके खात्मे की भी शुरुआत हो सकती है. दरअसल, चीन ने दावा किया है कि 5G तकनीक की मदद से कोरोना वायरस जैसी आपदा को पूरी तरह से खत्म किया जा सकता है.

एक स्टडी में हुआ खुलासा

चीन का कहना है कि 5G थर्मल इमेजिंग तकनीक Contagion (छूत की बीमारी) मॉनिटरिंग भी करता है. इस तकनीक की मदद से काफी सटीकता से किसी भी चलने वाली वस्तु का तापमान मापा जा सकता है. इसके लिए उस वस्तु को बिना छुए ही तापमान के बारे में पता लगाकर अलर्ट भेजा जा सकता है. गुरुवार को चीन ने एक स्टडी के हवाले से यह बात कही है.

महामारी से निपटने के लिए सबसे बेहतर टूल बन सकता है 5G

चीनी कंपनी Huawei और Deloitte की ज्वाइंट स्टडी के मुताबिक, COVID-19 ने पब्लिक हेल्थेकयर सिस्टम (PHS) पर बहुत अधिक दबाव डाला है. साथ ही किसी भी तरह की महामारी (Epidemic) को लेकर होने वाले रिस्पॉन्स सिस्टम पर भी इसका असर देखने को मिल रहा है. चीन जैसे देश में जहां एक बड़ा लैंडस्केप है, ज्यादा मोबाइल पॉपुलेशन, रिसोर्सेज के लिए उनकी मांग और डेटा एक्सचेंज इन्फेक्टेड लोगों की स्क्रीनिंग में एक प्रमुख भूमिका अदा करता है. ऐसे में यह तकनीक फ्रंट लाइन स्टॉफ को ग्राउंड पर सपोर्ट करने और इस आपदा को खत्म करने में मदद कर सकता है.

कैसे 5G कर सकता है मदद

चीन के कई टेलीकॉम ऑपरेटर्स ने हुवावे के साथ मिलकर COVID-19 का ट्रीटमेंट कर रहे हॉस्पिटल्स में 5G नेटवर्क को अलग तौर पर सेटअप किया. 5G तकनीक की बेहतर स्पीड, निर्भरता और बेहद कम लेटेंसी की वजह से यहां के हेल्थकेयर सिस्टम को काफी फायदा मिला है. इससे मरीजों की मॉनिटरिंग, डेटा कलेक्शन और उनका एनालिसिस करने में मदद मिली है. कंपनी ने कहा है कि इस तरह की आपदा से निपटने के लिए 5G तकनीक बड़ी मदद कर सकता है.

Related Articles

Back to top button