Select your Language: हिन्दी
India

वैज्ञानिकों ने किया दावा- अगर 3 सप्ताह तक पूरी तरह से हो लॉकडाउन तो रुक सकता है कोरोना का प्रकोप

वैज्ञानिकों ने किया दावा- अगर 3 सप्ताह तक पूरी तरह से हो लॉकडाउन तो रुक सकता है कोरोना का प्रकोप

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने 21 दिन तक के लिए पूरे देश को लॉकडाउन करने का ऐलान किया है। कोरोना के संक्रमण को रोकने का ये सबसे कारगर तरीका है। अमिराक के मिशिगन विश्वविद्यालय में स्टडी कर रहे वैज्ञानिकों की मानें तो यदि किसी देश को पूरी तरह से लॉकडाउन कर दिया जाता है, इससे कोरोना के प्रसार को 161 गुना रोका जा सकता है।

स्टडी में बताया गया है कि यदि इस वायरस के प्रसार को रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया तो 15 मई तक एक लाख लोगों में से 161 लोग इस संक्रमण का शिकार हो जाएंगे। अगर किसी देश ने केलव यातायत पर प्रतिबंध लगा दिया तो ये संख्या घटकर 48 रह जाएगी। याताया को प्रतिबंधित करने के साथ-साथ यदि लोगों को सोशल क्वारंटाइन कर दिया जाता है तब भी 1 लाख लोगों में से 4 लोगों के संक्रमित होने की संभावना है।

ऐसे पूरी तरह रुक जाएगा वायरस का प्रसार

स्टडी में ये बताया गया है कि अगर पूरे देश को केवल एक सप्ताह के लिए लॉकडाउन कर दिया जाए तो एक लाख लोगों में से केवल एक व्यक्ति ही संक्रमित होगा। वैज्ञानिकों का मानना है कि यदि तीन सप्ताह तक कोई देश खुद को पूरी तरह से लॉकडाउन कर ले तो कोरोना वायरस के प्रसार को पूरी तरह से रोका जा सकता है।

मई तक आ सकते हैं लाखों मामले

कोरोना वायरस के मामले जिस तरह से सामने आ रहे हैं, ऐसे में वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम की रिपोर्ट में आशंका जताई गई है कि मई के दूसरे हफ्ते तक भारत में 13 लाख कोरोना के मामले सामने आ सकते हैं। भारत में कोरोना के मामलों की स्टडी करने वाले Covid-19 स्टडी ग्रुप के रिसर्च ने मौजूदा आंकड़ों का अध्ययन करने के बाद जारी रिपोर्ट में आशंका जताई है।

दुनिया में अब तक 21,116 मौत

बता दें कि दुनियाभर में इस वायरस से अब तक 4,65,163 लोग संक्रमित हो चुके हैं, वहीं इस वायरस के चलते अब तक दुनिया में 21,116 लोगों की मौत हो चुकी है। जनवरी 2020 में भारत पहुंचे इस वायरस का प्रसार अब तेजी से पूरे देश में होने लगा है। भारत में इस वायरस से अब तक 612 लोग संक्रमित हो चुके हैं। हीं 11 लोग इस वायरस के चलते अपनी जान गंवा चुके हैं।

Related Articles

Back to top button