Select your Language: हिन्दी
राष्ट्रीय

सरकारी बैंकों के मेगा विलय के बाद क्या बढ़ जाएगी आपके लोन की EMI? पढे पूरी खबर

नई दिल्ली. नए फाइनेंशियल में सबसे बड़ा बदलाव सरकारी बैंकों को लेकर हुआ है. 10 सरकारी बैंकों को मर्ज कर 4 बैंक बना दिया गया है. ऐसे में ग्राहकों के मन में कई सवाल उठना लाजमी है. इसीलिए आज हम आपको मर्जर से जुड़े कुछ सवालों के जवाब देंगे. आपको बता दें कि केनरा बैैंक और सिडेंकेट बैंक का मर्जर हुुआ है. इंडियन बैंक का इलाहाबाद बैंक का मर्जर, पंजाब नेशनल बैंक के साथ ओबीसी और युुनाइटेड बैंक मर्जर हुुआ है. यूनियन बैंक के साथ आंध्रा बैंक और कॉर्पोरेशन बैंक का मर्जर हुआ है.

(1) सवाल- क्या मेरे लोन की ब्याज दरें पहले जैसी ही रहेंगी या उसमें कोई बढ़ोतरी होगी ?

जवाब- मौजूदा ग्राहकों के लिए ब्याज की दर कानूनी कॉन्ट्रैक्ट के मुताबिक रिसेट पीरियड तक समान बनी रहेगी. हालांकि, नए ग्राहकों के लिए ब्याज की दर को बैंक की वेबसाइट पर डाल दिया जाएगा.

(2) सवाल- क्या अब मुझे अपने लोन के डॉक्युमेंट फिर से जमा करने होंगे? 

जवाब- मर्जर के बाद लोन दस्तावेजों को दोबारा जमा कराने की कोई जरूरत नहीं होगी. सामान्य कामकाज के आधार पर कुछ कैनूनी दस्तावेज, अगर पहले जमा नहीं किए गए हैं, तो उन्हें मांगा जाएगा.

(3) सवाल- लोन ट्रांसफर, प्री-क्लोजर जैसी सुविधाएं क्या विलय के बाद भी ग्राहकों को मिलेंगी ?

जवाब-लोन से जुड़ी सभी सर्विसेज जैसे अमाउंट ट्रांसफर, प्री-क्लोजर, प्री-पेमेंट जैसी सेवाओं को संबंधित बैंक शाखा से लिया जा सकता है.

(4) सवाल- विलय के बाद मेरी ओवरड्राफ्ट (OD)/ कैश क्रेडिट (CC) की सुविधा का क्या होगा?

जवाब-ओवरड्राफ्ट (OD)/ कैश क्रेडिट (CC) का रिन्यूअल आसानी से हो जाएगा. इसमें में किसी भी बदलाव को पहले बता दिया जाएगा.

(5) अगर कोई ओरिएंट बैंक कस्टमर है तो उसके बैंक अकाउंट, चेक बुक, सेविगंस और FD का क्या होगा?

जवाब-विलय के बाद जो नए बैंक बने हैं वो जब तक नोटिफिकेशन जारी नहीं करते तब तक आपका मौजूदा अकाउंट नंबर, IFSC, MICR, डेबिट कार्ड..सब चलते रहेंगे. अभी चाहे जिस भी बैंक के आप ग्राहक हो आपके लिए सब पहले की तरह चलता रहेगा.ठीक इसी तरह जब तक बैंक कोई नोटिफिकेशन जारी नहीं करते, तब तक आपक चेकबुक और पासबुक भी पहले की तरह चलता रहेगा.

आपके अपने खाते से कैश निकालने की सीमा में भी कोई चेंज नहीं आएगा. पंजाब नेशनल बैंक की बात करें तो विलय के बाद भी ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC) और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया की इंटरनेट और मोबाइल बैंकिंग चलती रहेगी. पंजाब नेशनल बैंक इसमें बदलाव करने से पहले नोटिफिकेशन जारी करेगा.

Related Articles

Back to top button