राष्ट्रीय

दिये जलाने के दौरान इस ड्रेस मे नजर आए पीएम मोदी, ड्रेस पर ऐसा रहा सोशल मीडिया पर रिएक्शन

दिये जलाने के दौरान इस ड्रेस मे नजर आए पीएम मोदी, ड्रेस पर ऐसा रहा सोशल मीडिया पर रिएक्शन

नई दिल्ली I कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ देश इस वक्त एक महाजंग लड़ रहा है. इस महाजंग में देशवासियों का हौसला बुलंद रहना और हर किसी का एक रहना जरूरी है, इसी मकसद से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार की रात देशवासियों से दीप जलाने को कहा था, जिसका नज़ारा दुनिया ने देखा. इस दौरान प्रधानमंत्री आवास में खुद पीएम मोदी ने भी दीया जलाया, लेकिन इस दौरान सोशल मीडिया पर उनके परिधान को लेकर चर्चा शुरू हो गई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किस अवसर पर क्या पहनते हैं और किस तरह का संदेश देते हैं, इसको लेकर हमेशा चर्चा जारी रहती है. ऐसा ही कुछ रविवार को भी हुआ, जब दीप प्रज्वल्लन के मौके पर पीएम मोदी नीला कुर्ता, सफेद धोती और गमछा डाले हुए नज़र आए. सोशल मीडिया पर लोगों की ओर से इसको लेकर अपने-अपने तर्क दिए गए.

सोशल मीडिया पर ऐसा रहा रिएक्शन…

ट्विटर यूजर विवेक जैन ने प्रधानमंत्री के परिधान को लेकर लिखा, ‘अगर किसी ने नोटिस किया हो तो ध्यान दें, कुर्ता उत्तर से, धोती दक्षिण से, गमछा पूर्वोत्तर से और पीएम मोदी खुद पश्चिम से…जय हिंद’.

इनके अलावा कई ट्विटर यूजर्स ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा तमिल कल्चर के तहत दीप जलाने को लेकर शुक्रिया किया और उनकी तारीफ की.

केरल भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के. सुरेंद्रम ने सिर्फ प्रधानमंत्री के परिधान ही नहीं बल्कि जिसमें उन्होंने दीया जलाया, उसके बारे में भी जानकारी दी. उन्होंने लिखा कि प्रधानमंत्री ने एकता का दीप केरल के ट्रेडिशनल निलावियकू में जलाया है, केरल ने उनका पुरजोर समर्थन भी किया है.

इन सभी के अलावा भी प्रधानमंत्री के परिधान पर कई तरह की मीम बनते हुए दिखे. जबकि कई ट्विटर हैंडल पर इसे दक्षिण में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से जोड़ा गया.

पीएम की अपील पर एकजुट हुआ देश

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक वीडियो संदेश जारी करते हुए लोगों से रविवार की रात को नौ बजे नौ मिनट तक दीया, मोमबत्ती या टॉर्च जलाने की अपील की थी. जिसके बाद रविवार की रात देश के अलग-अलग इलाकों से भव्य नज़ारा दिखा, करोड़ों लोगों ने अपने घरों की लाइटें बंद करके बालकनी या गेट पर दीया जलाया.

Related Articles

Back to top button