Select your Language: हिन्दी
राष्ट्रीय

कोरोना को नियंत्रण करने के मामले मे दुनिया मे दूसरे नंबर पर भारत, अमेरिका-जापान को भी पीछे छोड़ा

कोरोना को नियंत्रण करने के मामले मे दुनिया मे दूसरे नंबर पर भारत, अमेरिका-जापान को भी पीछे छोड़ा

नई दिल्ली I भारत में 20 अप्रैल तक 17 हजार से अधिक कोरोना वायरस संक्रमण के केस सामने आ चुके हैं. बीते दो महीने में 4 लाख से अधिक लोगों की टेस्टिंग हुई है. हालांकि, टेस्ट पॉजिटिविटी रेट यानी TPR से पता चलता है कि भारत ने Covid-19 के फैलाव को काबू में रखा है. TPR से पता चलता है कि संक्रमण फैलने की रफ्तार क्या रही है.

भारत में मेडिकल नियामक इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की ओर से जारी लैब टेस्ट डेटा के मुताबिक औसतन 23 लोगों का टेस्ट किए जाने पर एक व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया. दूसरे शब्दों में कहें तो भारत में 19 अप्रैल तक TPR करीब 4 फीसदी था. ये दुनिया के कुछ सर्वाधिक प्रभावित देशों से कम है. इस मामले में दक्षिण कोरिया का प्रदर्शन बेहतर है जिसका TPR 1.9 फीसदी है.

ब्राजील का TPR 6.4 फीसदी है. इसके बाद जर्मनी (7.7 फीसदी), जापान (8.8 फीसदी), इटली (13.2 फीसदी), स्पेन (18.2 फीसदी) और अमेरिका (19.3 फीसदी) हैं.

TPR ऐसे में बहुत अहम पैमाना हो जाता है, जब किए गए टेस्ट्स की संख्या आबादी को देखते हुए कम हो. ये पैमाना कम टेस्ट किए जाने पर भी COVID-19 के संक्रमण के स्तर को दिखाता है.

हालांकि, एक पैमाने के तौर पर, TPR प्रीवेलेंस रेट (प्रसार दर) के बराबर नहीं होता, जो पैथोजन के सही संक्रमण-मृत्यु दर या संक्रमण के बाद कितने लोगों की मृत्यु हुई, दिखाता है,

ICMR टेस्टिंग डेटा हर दिन होने वाले टेस्ट की संख्या में बढ़ोतरी और नए केस में मजबूत को-रिलेशन (0.98) दिखाता है. ये बताता है कि अगर टेस्ट की संख्या बढ़ाई जाए तो केस की संख्या भी बढ़ सकती है.

Related Articles

Back to top button