Select your Language: हिन्दी
टेक्नोलोजी

बिना आरोग्य सेतु ऐप के नहीं चला पाएंगे नया स्मार्टफोन, सरकार कर सकती है जरूरी

बिना आरोग्य सेतु ऐप के नहीं चला पाएंगे नया स्मार्टफोन, सरकार कर सकती है जरूरी

नई दिल्ली. भारत सरकार का कोरोना वायरस को ट्रैक करने वाला आरोग्य सेतु ऐप जल्द ही हर ने स्मार्टफोन में पहले से इंस्टॉल होकर आएगा. सरकार से जुड़े सूत्रों ने आज इस बात की जानकारी दी है. मामले की जानकारी रखने वाले अधिकारियों के अनुसार सरकार ने लॉकडाउन खत्म होने के बाद भारत में बिकने वाले सभी स्मार्टफोन में इस ऐप की प्री-इंस्टॉल सर्विस अनिवार्य करने की बात कही है. साथ ही ये भी कहा है कि कंपनियों को सिर्फ प्री-इंस्टॉलिंग ही नहीं, बल्कि ये भी सुनिश्चित करना कि फोन इस्तेमाल करने से पहले यूज़र इस पर रेजिस्टर करें और इसे सेट करें.

इस निर्णय को लागू करने के लिए भारत सरकार नोडल एजेंसियों को नियुक्त करने की तैयारी में है, जो स्मार्टफोन कंपनियों से संपर्क में रहेंगी और देखेंगी कि सभी नए डिवाइस में इंस्टॉल हुई ऐप के साथ Skip करने का ऑप्शन ना दिया जाए. इससे भारत में आगे बेचे जाने वाले सभी नए स्मार्टफोन में आरोग्य सेतु ऐप को inbuilt फीचर के तौर पर दिया जा सकेगा.

सरकार ने अभी तक फीचर फोन पर कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग को सक्षम करने के लिए किसी भी संभावित समाधान की घोषणा नहीं की है, जो कि अभी भी भारत के मोबाइल फोन का बड़ा हिस्सा है.

जानकारी के लिए बता दें कि जब से आरोग्य सेतु ऐप को लॉन्च किया गया है, ये अकेले गूगल प्ले स्टोर पर देश भर में 7.5 करोड़ बार इंस्टाल हो चुका है. सरकार के आरोग्य सेतु कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग ऐप को अनिवार्य करने की योजना के साथ आने वाले दिनों में इसकी संख्या में तेजी से वृद्धि देखने को मिल सकती है.

क्या है Aarogya Setu App?
आरोग्य सेतु एक ट्रैकिंग ऐप है. इस ऐप में GPS सिस्टम और ब्लूटूथ के ज़रिए कोरोना वायरस के संक्रमण से संबंधित मामलों को पता लगाने की सुविधा है. आरोग्य सेतु ऐप एंड्रॉयड और आईफोन दोनों के लिए बनाई गई है. ऐप यूज़र के फोन का ब्लूटूथ, लोकेशन और मोबाइल नंबर का इस्तेमाल करके यह ट्रैक करता है कि वह किसी COVID-19 पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में तो नहीं आया है. इस ऐप में कोरोना के हेल्प सेंटर और सेल्फ असेसमेंट टेस्ट जैसे ऑप्शन मौजूद हैं.

ऐप में एक चैटबॉट शामिल है जो कोरोनो वायरस पर आपके मूल प्रश्नों का जवाब देता है और यह निर्धारित करता है कि आप में कोरोना संक्रमन के लक्षण हैं या नहीं. यह भारत में प्रत्येक राज्य का हेल्पलाइन नंबर भी देता है.

Related Articles

Back to top button