Select your Language: हिन्दी
दुनिया

कोरोना इफेक्ट: कंपनियों के निकलने के डर से बौखलाया चीन, कहा- भारत उसकी जगह नहीं ले सकता

नई दिल्ली I कोरोना संकट और लॉकडाउन की वजह से दुनिया के ज्यादातर देशों की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है. खस्ताहाल अर्थव्यवस्था को देखते हुए भारत की कोशिश है कि औद्योगिक श्रृंखला विस्तार में चीन को पछाड़कर उसकी जगह ली जाए. चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने भारत की ऐसी कोशिशों पर चिंता जताई है.

चीन में स्थित कई कंपनियां अब भारत में मैन्यफैक्चरिंग यूनिट लगाने का विचार कर रही हैं जिससे भारत का पड़ोसी देश भड़क गया है. चीन सरकार समर्थित चाइनीज डेली ग्लोबल टाइम्स ने भारत की कोशिशों पर चिंता व्यक्त की और कहा कि वह कभी भी चीन का विकल्प नहीं बन सकेगा.

कंपनियों के फैसले से चीन परेशान

चीन में यह चिंता उस समय जताई गई है जब पिछले दिनों जर्मनी की एक जूता कंपनी ने अपनी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट चीन से उत्तर प्रदेश शिफ्ट करने की बात कही. इसी तरह कई अन्य कंपनियां भारत आने को उत्सुक हैं. इसके अलावा कई कंपनियां चीन से बाहर जाने की सोच रही हैं.

ग्लोब्ल टाइम्स लिखता है कि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में चीन में मैन्युफैक्चरिंग करने वाली उन कंपनियों को जो शिफ्ट करने की योजना बना रही है, को आकर्षित करने के लिए एक आर्थिक टास्क फोर्स का गठन बनाया है.

भारत कामयाब नहीं होगाः ग्लोबल टाइम्स

हालांकि, इस तरह के प्रयासों के बावजूद, कोरोना महामारी के दौर में आर्थिक दबाव के बीच चीन को पीछे छोड़कर भारत का दुनिया की अगली फैक्टरी बनने की उम्मीद कम ही है.

अखबार लिखता है कि कुछ कट्टर समर्थक मान रहे हैं कि भारत चीन को पीछे छोड़ने की राह पर है, लेकिन यह सिर्फ राष्ट्रवादी सोच के अलावा कुछ नहीं है. वह राष्ट्रवादी डींग है.

अपनी भड़ास निकालते हुए ग्लोबल टाइम्स कहता है कि और इस तरह के दंभ आर्थिक मुद्दों से आगे बढ़कर अब सैन्य स्तर तक पहुंच गए हैं, जिसके कारण कुछ लोगों को गलती से यह विश्वास हो चला है कि वे अब चीन के साथ सीमा से जुड़े मुद्दों का सामना कर सकते हैं. ऐसी सोच निस्संदेह खतरनाक और पथभ्रष्ट होगी.

Related Articles

Back to top button