Select your Language: हिन्दी
स्वास्थ्य

अपनी सोच को कैसे पॉजीटिव थिंकिंग मे बदल सकते है , जानिए क्या है इसके फायदे

अपनी सोच को कैसे पॉजीटिव थिंकिंग मे बदल सकते है , जानिए क्या है इसके फायदे

नई दिल्ली। निगेटिव हमेशा निगेगिटव चीजों को ही आकर्षित करता है। मानव जीवन के साथ भी ऐसा ही होता है। अगर आप ऐसा सोचते हैं कि ये आपका कर्मा है तो ये आपकी गलती है वास्तव ये ये दोनों बिल्कुल अलग-अलग धारणाएं हैं। कर्मा के मुताबिक अगर आप अच्छा करते हैं तो आप प्रशंसा के पात्र हैं लेकिन अगर आप बुरा करते हैं तो आप बुराई के पात्र हैं। ऐसे में कहा जाता है कि हमें हमेशा पॉजीटिव सोच रखनी चाहिए इससे आपके पास पॉजीटिव चीजें आएंगी।

पॉजीटिव थिंकिंग के अनगिनत फायदे हैं जिसका आपके जीवन पर बड़ा असर पड़ता है। जो भी आपकी जिंदगी में होता है वह इस पर निर्भर करता है कि आप किस तरह की सोच रखते हैं। अगर आपके पास निगेटिविटी है तो इसका संबंध आपकी सोच से है ना कि आपके आस-पास के माहौल से। आज हम पॉजीटिव थिंकिंग के 6 बड़े फायदों के बारे में बात करेंगे।

स्वाभिमान का निर्माण

जीवन में सफलता प्राप्त करना है तो आपको स्वाभिमानी होना चाहिए। इसका मतलब ये बिल्कुल नहीं है कि आपको बिना मतलब की बातों पर खुद पर घमंड करना चाहिए लेकिन आप जो कर रहे हैं उसका सम्मान और आप जो कर रहे हैं उसे पसंद करिए। आशावादी बनने से आपमें स्वाभिमानी के गुण विकसित होते हैं। अगर आप निगेटिव चीजों पर ध्यान देते रहते हैं तो आपका दिमाग उन्हीं फालतू की बातों में उलझा रहेगा। इससे आपक आत्मविश्वास और स्वाभिमान दोनों डगमगाने लगेगा। निगेटिव थिंकिंग आपको आपनी क्षमता की पहचान करने नहीं देता है जिसका फिर आपके कर्मा पर असर पड़ता है।

इम्यूनिटी में सुधार

अगर आप पॉजीटिव थिंकिंग रखते हैं तो इसका आपके दिल और दिमाग पर ही असर नहीं पड़ता है इसका आपके शरीर पर भी असर पड़ता है। अगर आप आशावादी बनते हैं और पॉजीटिव थिंकिंग रखते हैं तो इससे आपकी इम्युनिटी में सुधार होता है और आपको कोल्ड और फ्लू जैसू गंभीर बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। इससे स्ट्रेस लेवल कम होता है। स्ट्रेस और डिप्रेशन आपको इनसोमनिया का शिकार बना देता है। अगर आप पॉजीटिव थिंकिंग रखते हैं तो आपको कभी भी इनका शिकार नहीं होना पड़ेगा।

रिश्तों मे मधुरता

हर किसी की लाइफ में रिश्तों का काफी महत्व होता है, फिर चाहें आप बच्चे हों, बड़े हों या फिर बूढ़े। अगर आप किसी रिश्ते में हैं तो आपको बेहतर एहसास होता है और ये आपको अच्छी जिंदगी की तरफ ले जाने में मदद करते हैं। किसी भी रिश्ते में समर्पण व विश्वास होना बहुत जरूरी है। अगर आप उस रिश्ते के बारे में बुरा सोचते हैं उन पर विश्वास कम करते हैं तो इससे आप इमोशनली कमजोर हो जाते हैं और आपका रिश्ता खराब हो जाता है। साथ ही आपके अंदर निगेटिव थिंकिंग आने शुरू हो जाते हैं।

दर्द को सहने की शक्ति

आशावादी होना स्ट्रेस का सबसे बढ़िया इलाज है। स्टडी के मुताबिक पॉजीटिव थिंकिंग से कई तरह के दर्द कम होते हैं। एक शांत दिमाग नेचुरल तरीके से आपके दर्द को आपके घावों को ठीक करता है। पॉजीटिव थिंकिंग से आपमें दर्द सहने की क्षमता बढ़ती है और आप जल्दी इससे बाहर आ पाते हैं।

मोटिवेट रखता है

पॉजीटिव थिंकिंग आपको लंबे समय तक मोटिवेट रखता है। बड़ी-बड़ी पर्सनैलिटीज और सेलिब्रिटी अपने आपको फेल्योर की नकारात्मकता से बचाने के लिए अपने आपको मोटिवेट रखते हैं। इससे आपमें उम्मीद की किरण बनी रहती है और आपके ऊपर कभी भी असफलता का नकारात्मक असर नहीं होगा।

स्ट्रेस कम करता है

पॉजीटिव थिंकिंग आपमें स्ट्रेस को कम करता है। चूंकि आप ऐसे में निगेटिव चीजों और निगेटिव सोच से दूर रहते हैं इसलिए आपको स्ट्रेस भी कम होता है। आशावादी बनने से भी आपको डिप्रेशन का खतरा कम रहता है।

Related Articles

Back to top button