Select your Language: हिन्दी
राष्ट्रीय

अयोध्या मे राम मंदिर के भूमिपूजन से ठीक पहले असदुद्दीन ओवैसी ने किया ट्वीट- ‘बाबरी मस्जिद थी और रहेगी’

नई दिल्ली। अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमिपूजन करेंगे. भव्य राम मंदिर के भूमिपूजन से पहले सुबह-सुबह AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने एक ट्वीट किया है. ओवैसी ने ट्वीट में लिखा है, ”बाबरी मस्जिद थी और रहेगी. इशांअल्लाह.” इसके साथ ही उन्होंने बाबरी मस्जिद और बाबरी मस्जिद के विध्वंस की एक-एक तस्वीर भी शेयर की है.

बता दें, 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने विवादित राम मंदिर- बाबरी मस्जिद भूमि को लेकर अपना फैसला सुनाया था. अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन राम लला को सौंप दिया था. साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को आदेश दिया था कि मस्जिद बनाने के लिए अयोध्या में पांच एकड़ की जमीन दी जाए.

प्रियंका के बयान पर ओवैसी का तंज

एक दिन पहले एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने प्रियंका गांधी के बयान पर तंज कसा था. प्रियंका के बयान पर ओवैसी ने कहा था, ‘खुशी है कि वो अब नाटक नहीं कर रहे हैं. कट्टर हिंदुत्व की विचारधारा को गले लगाना चाहते हैं तो ठीक है, लेकिन भाईचारे के मुद्दे पर पर वो खोखली बातें क्यों करती हैं.’

प्रियंका गांधी ने भूमिपूजन कार्यक्रम का समर्थन करते हुए कहा था कि राम सबमें हैं, राम सबके साथ हैं. सरलता, साहस, संयम, त्याग, वचनवद्धता, दीनबंधु. राम नाम का सार है. प्रियंका गांधी ने आगे कहा है कि रामलला के मंदिर के भूमिपूजन का कार्यक्रम राष्ट्रीय एकता, बंधुत्व और सांस्कृतिक समागम का अवसर है.

आज 12 बजकर 40 मिनट पर होगा भूमिपूजन

अयोध्या में आज 12 बजकर 40 मिनट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन करेंगे. आज सुबह 6:00 बजे से यहां ट्रैफिक डायवर्जन लागू हो गया है. खबर है कि खराब मौसम के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हेलीकॉप्टर लखनऊ से अयोध्या नहीं गया तो पीएम मोदी सड़क मार्ग से जाएंगे.

राम मंदिर के भूमि पूजन में 175 प्रतिष्ठित मेहमान शामिल होंगे. इसमें सर संघचालक मोहन भागवत, सरकार्यवाह भय्याजी जोशी, दत्तात्रेय होसबले, सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल, विश्व हिंदू परिषद के मुखिया आलोक कुमार, पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, मुस्लिम पक्षकार रहे हाजी महबूब, इकबाल अंसारी, लावारिस लाशों का अंतिम संस्कार करने वाले पद्मश्री मुहम्मद शरीफ शामिल हैं. वहीं राम मंदिर आंदोलन के आधार रहे लालकृष्ण अडवाणी और मुरली मनोहर जोशी वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए भूमि पूजन के कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे.

Related Articles

Back to top button