Select your Language: हिन्दी
राष्ट्रीय

राजस्थान का सियासी पारा गिरा कांग्रेस में सचिन पायलट की होगी सम्मानजनक घर वापसी, गहलोत ही रहेंगे मुख्यमंत्री

नई दिल्ली I करीब एक महीने की बगावत के बाद सचिन पायलट की कांग्रेस में घर वापसी तय हो गई है. अपनी बगावत को पद और प्रतिष्ठा की बात कहने वाले सचिन पायलट ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मुलाकात की. कांग्रेस की ओर से एक कमेटी का गठन किया गया है, जो कि सचिन पायलट की सभी समस्याओं का समाधान करेगी. इन वादों के साथ ही सचिन पायलट मान गए हैं और जल्द ही वो कांग्रेस में किसी बड़े पद पर दिखाई दे सकते हैं.

अब क्या होगा?

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को सचिन पायलट और उनके साथी विधायकों से मुलाकात की, सभी की बातें सुनी गईं. जिसके बाद मंगलवार को सभी विधायक जयपुर जा सकते हैं. यानी 14 अगस्त से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र से पहले ही कांग्रेस ने अपने घर को समेट लिया है. दूसरी ओर कांग्रेस आलाकमान ने अशोक गहलोत से भी बात की है, वो भी हॉर्स ट्रेडिंग मामले में नरमी बरतने को तैयार हैं.

कैसे राजी हुए सचिन पायलट?

राहुल-प्रियंका से मुलाकात के बाद सचिन पायलट ने मीडिया से बात की, उन्होंने कहा कि पार्टी पद देती है तो ले भी सकती है. हम आत्मसम्मान की लड़ाई लड़ रहे थे. इस बीच अब इस बात पर मंथन होगा कि सचिन पायलट की सम्मानजनक वापसी कैसे हो, पार्टी की ओर से उन्हें केंद्रीय नेतृत्व में कोई पद दिया जा सकता है.

ऐसे में राजस्थान में अशोक गहलोत अभी सीएम बने रहेंगे, लेकिन सचिन पायलट के करीबियों को मंत्रिमंडल में बड़ा पद मिल सकता है. इसके अलावा पार्टी की ओर से सचिन पायलट को मुख्यमंत्री पद का आश्वासन मिला है.

अब विधानसभा सत्र पर निगाहें

गौरतलब है कि 14 अगस्त को विधानसभा का सत्र शुरू होना है, पायलट गुट के कुछ विधायक जयपुर लौट आए हैं और कुछ जल्द लौटेंगे. भारतीय जनता पार्टी को सरकार बनाने का सपना देख रही थी, वो फिर टूट गया है. आज बीजेपी की बैठक भी होनी है, ऐसे में उसमें भी कुछ असर दिख सकता है. हालांकि, वसुंधरा राजे और उनके समर्थकों ने पहले ही अपने अलग तेवर दिखा दिए हैं.

Related Articles

Back to top button