Select your Language: हिन्दी
राष्ट्रीय

डेटा सुरक्षा के मामले में संसदीय समिति के सामने प्रस्तुत हुए फेसबुक के अफसर

नई दिल्ली. डेटा सुरक्षा के मामले में फेसबुक के अफसर शुक्रवार को संसद की समित‍ि के सामने पेश हए. इस दौरान उनसे कुछ कड़े सवाल पूछे गए. पेशी के बाद फेसबुक ने शुक्रवार को कहा कि देश में अपनाए जा रहे डेटा सुरक्षा कानून में भारत की डिजिटल अर्थव्यवस्था और वैश्विक डिजिटल व्यापार को गति देने की क्षमता है.

कंपनी का यह बयान डेटा सुरक्षा विधेयक 2019 पर संसद की संयुक्त समिति की सुनवाई के बाद आया है. इस समिति की अध्यक्ष भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी हैं. कंपनी के नीतिगत प्रमुख अंखी दास ने समिति के समक्ष उसका पक्ष रखा. उनसे लगभग दो घंटे पूछताछ की गई और कुछ कड़े सवाल पूछे गए. समिति में विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने सवाल-जवाब किए.

समिति के एक सदस्य ने बैठक के दौरान सुझाव दिया कि सोशल मीडिया मंच को उपयोक्ताओं के डेटा का उपयोग अपने विज्ञापन दाताओं के वाणिज्यिक लाभ या चुनावी प्रक्रिया को प्रभावित करने के लिए नहीं करना चाहिए.

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, ‘निजी डेटा सुरक्षा विधेयक पर संयुक्त समिति के सदस्यों के साथ डेटा विनियम के मुद्दों पर चर्चा करने का अवसर मिलने से हम गौरवान्वित हैं. हमें भरोसा है कि देश के डेटा सुरक्षा कानून में देश की डिजिटल अर्थव्यवस्था और वैश्विक डिजिटल व्यापार को गति देने की क्षमता है. हम सरकार के इस प्रयास में पूरा सहयोग देंगे.’

संसदीय समिति की बैठक की जानकारी रखने वाले सूत्र ने बताया कि समिति ने शुक्रवार को सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक से उसके राजस्व, लाभ और देश में कर के भुगतान को लेकर सवाल जवाब किए. कंपनी से पूछा गया कि उनकी आय का कितना हिस्सा देश में डेटा सुरक्षा के लिए इस्तेमाल होता है.

Related Articles

Back to top button