Select your Language: हिन्दी
Gujarat

गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल बोले- महबूबा मुफ्ती को परिवार के साथ पाकिस्तान चले जाना चाहिए

अहमदाबाद: अनुच्छेद 370 समाप्त करने को लेकर पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के हालिया बयान पर नाराजगी जताते हुए गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने सोमवार को कहा कि जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री को यदि भारत और उसके कानून पसंद नहीं हैं तो उन्हें सपरिवार पाकिस्तान चले जाना चाहिए.

वडोदरा के कुराली गांव में उपचुनाव के लिए एक सभा को संबोधित करते हुए पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह देश की सुरक्षा के लिए नागरिकता संशोधन कानून लाए और उन्होंने अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को समाप्त किया.

उन्होंने कहा, ‘‘महबूबा पिछले दो दिन से अनर्गल बयान दे रही हैं. उन्हें हवाई टिकट खरीदने चाहिए और अपने परिवार के साथ कराची चले जाना चाहिए. सभी के लिए यह ठीक होगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर वह चाहें तो करजन तालुका की जनता उन्हें हवाई टिकट खरीदने के लिए पैसे भेज देगी.’’

पटेल ने कहा, ‘‘जिन्हें भारत पसंद नहीं है या सरकार द्वारा बनाये गये सीएए जैसे कानून या अनुच्छेद 370 का समाप्त करना पसंद नहीं हैं? उन्हें पाकिस्तान चले जाना चाहिए.’’

जम्मू कश्मीर के भारत के साथ संपूर्ण विलय और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के तिरंगे झंडे के लिए कहे गए आपत्तिजनक शब्दों के विरोध में बीजेपी ने सोमवार शाम जम्मू में दीप प्रज्वलन का कार्यक्रम आयोजित किया. इस मौके पर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष रविंद्र रैना ने पीडीपी पर तीखा हमला बोला.

सोमवार को दिन भर बीजेपी ने जम्मू कश्मीर के भारत के साथ संपूर्ण विलय और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के तिरंगे झंडे के लिए कह गए, आपत्तिजनक शब्दों के विरोध में कई कार्यक्रम आयोजित किए. तिरंगा रैली के बाद बीजेपी ने सोमवार शाम जम्मू शहर समेत कई इलाकों में दीप प्रज्वलन का कार्यक्रम आयोजित किया.

सोमवार को जहां जम्मू में बीजेपी ने पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के तिरंगे झंडे को कहे गए अपमानजनक शब्दों के खिलाफ तिरंगा रैली निकाली, वहीं पार्टी के तीन नेताओं ने महबूबा के इन बयानों से नाराज होकर पार्टी से इस्तीफा दिया है.

पार्टी से अलग होने के बाद इन नेताओं ने महबूबा मुफ्ती के खिलाफ कई तीखे हमले किए. सोमवार को जहां एक तरफ जम्मू में पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के तिरंगे झंडे को लेकर कहे गए आपत्तिजनक शब्दों के खिलाफ प्रदर्शन हुआ, वहीं पीडीपी को महबूबा के इन बयानों की भारी कीमत चुकानी पड़ी.

Related Articles

Back to top button