Select your Language: हिन्दी
राष्ट्रीय

राम मंदिर निर्माण को लेकर ट्रस्ट के महासचिव का बयान, बोले- मकर संक्रांति के बाद शुरू होगा कार्य

नई दिल्ली। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के महासचिव और विश्व हिन्दू परिषद के उपाध्यक्ष चंपत राय ने शुक्रवार को कहा कि मकर संक्रांति से मंदिर निर्माण का कार्य शुरू हो जायेगा। राय ने कहा कि मंदिर को मजबूत एवं दीर्घायु बनाने के लिए देश के बड़े इंजीनियर और वैज्ञानिकों की टीम कार्य कर रही है। उल्लेखनीय है कि चंपत राय संत समिति के बैठक में भाग लेने वाराणसी पहुंचे थे।

विश्व हिन्दू परिषद के कार्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए राय ने कहा कि मन्दिर को मजबूत बनाने के लिए मुंबई, गुवाहाटी एवं चेन्नई स्थित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों के विशेषज्ञ लगे हुए हैं। मकर संक्रांति तक मंदिर का नक्शा बन कर तैयार हो जाएगा। उन्होंने बताया कि मंदिर 360 फुट लंबा और 235 फुट चौड़ा होगा। मंदिर के शिखर की ऊंचाई 161 फुट होगा । उन्होंने बताया कि मंदिर दर्शन करने जाने के लिए भक्तों को 32 सीढिय़ों से करीब साढ़े सोलह फुट ऊपर चढऩा होगा।

राय ने बताया कि विशेषज्ञों को यह समझ नहीं आ रहा कि देश भर से आ रहे चांदी का उपयोग कहां किया जाय। उन्होंने बताया कि मंदिर के नीवं में लोहे की जगह ताँबे के कील पत्तियों का प्रयोग किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कहीं से भी सोने की ईंट नहीं आयी है, चांदी बहुत आ रही। राय ने बताया कि लोग धन का दान करें, धन संग्रह अभियान 14 जनवरी से शुरू किया जाएगा जो 27 फरवरी तक चलेगा। लाखों कार्यकर्ता घर घर जा कर धन संग्रह करने का काम करेंगे।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए पश्चिमी मध्यप्रदेश में निकाली गईं वाहन रैलियों पर पथराव और उपद्रव का मामला तूल पकड़ रहा है। इस बीच, विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने इन हिंसक घटनाओं के पीछे पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) नाम के संगठन की साजिश होने का संदेह जताया है।

विहिप के मालवा प्रांत (इंदौर-उज्जैन संभाग) के सचिव सोहन विश्वकर्मा ने शुक्रवार को यहां संवाददाताओं से कहा, ‘राम मंदिर की रैलियों पर पथराव और उपद्रव की घटनाएं साजिश के तहत सामने आई हैं। इसमें पीएफआई की भूमिका हो सकती है।’ विश्वकर्मा ने पीएफआई को ‘प्रतिबंधित संगठन सिमी का बदला हुआ रूपÞ बताते हुए दावा किया कि मालवा अंचल में पीएफआई सक्रिय हो रहा है।

उन्होंने कहा, ‘जिस प्रकार संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का विरोध कर रहे लोगों को गुप्त रूप से धन मुहैया कराया गया था, उसी तरह राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण में बाधा खड़ी करने के लिए पश्चिमी मध्यप्रदेश में साजिश के तहत पथराव कराया जा रहा है।’ विश्वकर्मा ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर जागरूकता फैलाने के अभियान को निशाना बनाते हुए पिछले 10 दिनों में उज्जैन, इंदौर, मंदसौर और खरगोन जिलों में ङ्क्षहसा की अलग-अलग घटनाएं सामने आई हैं।

Related Articles

Back to top button