Select your Language: हिन्दी
Tech

आज से कॉलिंग से जुडे इस नियम में हुआ बदलाव, लैंडलाइन से मोबाइल फोन पर कॉल करने पर जीरो लगाना हुआ अनिवार्य

नई दिल्ली I लैंडलाइन कनेक्शन के जरिए मोबाइल नंबर पर आउटगोइंग कॉल करने वाले यूजर्स को आज (15 जनवरी 2021) से किसी भी मोबाइल नंबर कॉल करने से पहले जीरो (0) लगाना होगा। हालांकि यह नई जानकारी नहीं है। इसके बारे में दूरसंचार विभाग ने पिछले साल नवंबर में एक सर्कुलर जारी किया था, जिसमें सभी टेलीकॉम ऑपरेटरों को निर्देश दिया गया था कि वे इस नियम को अपने सिस्टम में लागू करें। अब यह नियम देश भर के सभी लैंडलाइन यूजर्स के लिए लागू हो गया है। गौर हो कि नियम को लागू करने का सुझाव भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) द्वारा पिछले साल मई में आया था।

इस नियम को लागू करने की जरूरत क्या है?
ध्यान दें कि लैंडलाइन से मोबाइल नंबरों पर आउटगोइंग कॉल करते समय नंबर से पहले 0 जोड़ना अनिवार्य है। मोबाइल से फिक्स्ड-लाइन कनेक्शन, मोबाइल टू मोबाइल और फिक्स्ड-लाइन टू फिक्स्ड-लाइन कनेक्शन पर कॉल करने के नियम समान हैं। तो इस नियम की क्या जरूरत है? DoT टेलीकॉम ऑपरेटरों से इस नियम को लागू करने के लिए क्यों कह रहा है और यूजर्स के लिए इससे क्या फायदे हैं?

इससे यूजर्स को डायरेक्ट लाभ नहीं होगा। यह नियम लागू किया गया है ताकि मोबाइल यूजर्स की संख्या में लगातार वृद्धि और फिक्स्ड-लाइन यूजर्स की संख्या में गिरावट के बीच नंबरिंग रिसोर्स को फ्री किया जा सके। इस नियम के लागू होने के साथ, सरकार को 2,539 मिलियन नंबरिंग सीरीज तैयार होने की उम्मीद है। इसलिए यह नियम यूजर्स को लंबे समय में फायदा पहुंचाएगा, क्योंकि एक समय वे इन नंबरिंग रिसोर्स का इस्तेमाल करेंगे।

नियम को लागू करने के लिए ट्राई की सिफारिश भी नंबरिंग रिसोर्स को फ्री करने के इरादे से आई थी। मोबाइल सेवाओं के लिए नए नंबरिंग रिसोर्स भारत के लिए एक अच्छी बात होगी क्योंकि मोबाइल यूजर्स की संख्या बाजार में अपना रास्ता बनाते हुए सस्ते 4जी स्मार्टफोन के साथ तीव्र गति से आगे बढ़ने के लिए तैयार है। DoT ने सभी टेलीकॉम ऑपरेटर्स को अपने लैंडलाइन ग्राहकों को नवंबर में उसी के बारे में सूचित करने का निर्देश दिया था। उस समय, नियम को 1 जनवरी 2021 से लागू करने की बात कही गई थी।

एयरटेल ने पहले की अपने ग्राहकों को मोबाइल नंबरों पर आउटगोइंग कॉल डायल करने से पहले 0 जोड़ने के बारे में बताना शुरू कर दिया था। अन्य दूरसंचार ऑपरेटरों जैसे भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल), महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (एमटीएनएल), रिलायंस जियो, और वोडाफोन आइडिया (वीआई) से भी ऐसा करना शुरू कर दिया है।

Related Articles

Back to top button