Select your Language: हिन्दी
राष्ट्रीय

अगर चीन और पाक की चुनौतियों से पार पाना है तो इस बार के रक्षा बजट में हो बढ़ोत्तरी- रक्षा विशेषज्ञ

नई दिल्ली। चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जारी गतिरोध को देखते हुए एक्सपर्ट्स ने वित्त वर्ष 2021-22 के केंद्रीय बजट में रक्षा क्षेत्र के लिए आवंटन बढ़ाए जाने की जरूरत पर बल दिया है। इसके साथ ही विशेषज्ञों ने इस बात को भी प्रमुखता से रेखांकित किया है कि सरकार को डिफेंस इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास पर सबसे ज्यादा ध्यान देना चाहिए। मेजर जनरल एसपी सिन्हा ने कहा कि दुनिया ऐसे देशों के सामने ही झुकती है, जो शक्तिशाली होते हैं। ऐसे में भारत को डिफेंस सेक्टर में खुद को मजबूत और शक्तिशाली बनाने की जरूरत है और इसके लिए आगामी बजट से काफी अधिक उम्मीदे हैं।

सिन्हा ने कहा कि आगामी बजट में सेना के आधुनिकीकरण को ध्यान में रखकर घोषणाएं की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि देश की सेनाओं को अत्याधुनिक हथियार, नई टेक्नोलॉजी से लैस मॉनिटरिंग सिस्टम और प्लेटफॉर्म्स की दरकार है।

इसके साथ ही सेना को अथॉराइज्ड हथियार चाहिए। इसका आशय यह है कि जितने हथियार और प्लेटफॉर्म्स का ऑथराइजेशन मिला हुआ है। वह मात्रा पूरी होनी चाहिए। इसके लिए आवंटन में वृद्धि की जरूरत है। साथ ही क्वालिटी पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए।

सिन्हा ने इस बात पर जोर दिया कि सरकार को इस तरह के कदम उठाने चाहिए ताकि आने वाले समय में हम रक्षा क्षेत्र में दूसरे देशों को हथियारों का निर्यात कर पाएं। उन्होंने कहा कि एक्सपोर्ट की क्षमता विकसित होने से भारत एक राष्ट्र के तौर पर काफी मजबूत होकर उभरेगा।

Related Articles

Back to top button