Select your Language: हिन्दी
India

बजट में आत्मनिर्भरता की दृष्टि, इसके दिल में गांव और किसान- पीएम मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा संसद में पेश किए गए आम बजट में ‘‘आत्मनिर्भरता’’ की दृष्टि है जो हर क्षेत्र में ‘‘ऑल राउंड’’ विकास की बात करता है और इसके दिल में गांव और किसान हैं। बजट पेश किए जाने के बाद प्रधानमंत्री ने इसकी सराहना करते हुए कहा कि वर्ष 2021 का बजट असाधारण परिस्थितियों के बीच पेश किया गया है। उन्होंने कहा कि इसमें यथार्थ का एहसास भी और विकास का विश्वास भी है। उन्होंने कहा, ‘‘देश में कृषि क्षेत्र को मजबूती देने के लिए, किसानों की आय बढ़ाने के लिए इस बजट में बहुत जोर दिया गया है और कई प्रावधान किए गए हैं। कृषि क्षेत्र में किसानों को और आसानी से तथा ज्यादा ऋण मिल सकेगा। देश की मंडियों को यानी एपीएमसी को और मजबूत करने के लिए कृषि अवसंरचना कोष से मदद का प्रावधान किया गया है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ये सब निर्णय दिखाते हैं कि इस बजट के दिल में गांव है, हमारे किसान हैं।’’ बजट को नए दशक की शुरुआत की नींव रखे जाने वाला बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह रोजगार के अवसर को बढ़ाने वाला और देश को आत्मनिर्भरता के रास्ते पर ले जाने वाला बजट है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) सेक्टर को गति देने के लिए, रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए, इस बार एमएसएमई सेक्टर का बजट भी पिछले साल की तुलना में दोगुने से ज्यादा कर दिया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘ये बजट आत्मनिर्भरता के उस रास्ते को लेकर आगे बढ़ा है, जिसमें देश के हर नागरिक की प्रगति शामिल है। ये बजट, इस दशक की शुरुआत की एक मजबूत नींव रखने वाला है।’’ देशवासियों को ‘‘आत्मनिर्भर भारत’’ के इस ‘‘महत्वपूर्ण’’ बजट की शुभकामनाएं देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बजट से ‘‘वेल्थ और वैलनेस’’ दोनों तेज गति से बढ़ेंगे।

उन्होंने कहा कि कोरोना ने दुनिया में जो प्रभाव पैदा किया, उसने पूरी मानव जाति को हिलाकर रख दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘इन परिस्थितियों के बीच आज का बजट भारत के आत्मविश्वास को उजागर करने वाला है। और साथ ही दुनिया में एक नया आत्मविश्वास भरने वाला है। आज के बजट में आत्मनिर्भरता का विजन भी है और हर नागरिक, हर वर्ग का समावेश भी है।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि बजट में जिन सिद्धांतों को लेकर सरकार आगे गढ़ी है उनमें विकास के लिए नए अवसरों व नई संभावनाओं का विस्तार करना, युवाओं के लिए नए अवसरों का निर्माण करना, मानव संसाधन को एक नया आयाम देना, अवसंरचना निर्माण के लिए नए-नए क्षेत्रों को विकसित करना, आधुनिकता की तरफ आगे बढ़ना और नए सुधार लाना शामिल हैं।

Related Articles

Back to top button