Select your Language: हिन्दी
राजनैतिक

राहुल गाँधी के दक्षिण भारत वाले बयान पर पार्टी के अंदर ही मचा घमासान, कांग्रेस सीनियर नेताओं ने उठाए सवाल

नई दिल्ली: कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के उत्तर-दक्षिण भारत की तुलना वाले बयान ने पार्टी के अंदर ही कलह बढ़ा दी है. राहुल पर बीजेपी तो हमलावर है ही, कांग्रेस के भीतर भी एकमत नजर नहीं आ रहा. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल के बयान में राहुल का बचाव कम उनके लिए नसीहत ज्यादा नजर आ रही है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस ने हमेशा मतदाताओं और चयन की उनकी आजादी का सम्मान किया है और आगे भी करती रहेगी. वहीं, उन्होंने राहुल गांधी के ‘उत्तर-दक्षिण’ संबंधी बयान पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. गांधी की टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर सिब्बल ने कहा, ‘मुझे बयान के बारे में नहीं पता, ना ही मैं बयान के संदर्भ से वाकिफ हूं. इसलिए मैं राहुल गांधी के बयान पर टिप्पणी नहीं करना चाहता.’

उन्होंने कहा, ‘एक कांग्रेसी होने के नाते इतना जरूर कहूंगा कि मैं इस देश के प्रत्येक मतदाता का सम्मान करता हूं, चाहे वे कहीं के भी हों. मताधिकार के इस्तेमाल के दौरान मैं उनके चयन की स्वतंत्रता और समझदारी का सम्मान करता हूं.’ सिब्बल ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि कोई भी कांग्रेसी इस बात पर कभी विश्वास करेगा कि इस देश में कोई मतदाता सम्मान के लायक नहीं है.

यूथ कांग्रेस अध्यक्ष को नागवार गुजरा सिब्बल का बयान
कपिल सिब्बल का दिया ये बयान यूथ कांग्रेस अध्यक्ष बीवी श्रीनिवास को इतना नागवार गुजरा कि उन्होंने सिब्बल की सियासी समझ पर ही सवाल खड़े कर दिए. श्रीनिवास ने ट्वीटर पर लिखा, ‘पूरे सम्मान के साथ जो साइडलाइन हैं वो लेक्चर देना बंद करें, कांग्रेस पार्टी को जरूरत है जो ग्राऊंड पर है नाकि 24 घंटे प्रवचन देने वालों की.’ इसपर दिल्ली बीजेपी मीडिया सेल के प्रभारी नवीन कुमार ने कहा, ‘कांग्रेस मुक्त भारत तो हो ही चुका है अब कांग्रेस के लोग भी चाहते हैं कि गांधी परिवार से उन्हें मुक्ति.’

“राहुल गांधी ने अपने अनुभव के आधार पर टिप्पणी की”
बीजेपी, अक्सर राष्ट्रीय मुद्दों पर दिए राहुल गांधी के बयानों को उनकी अनुभवहीनता से जोड़ती आई है. लेकिन इस बार अनुभव को निजी बताकर आनंद शर्मा ने विवाद को ट्विस्ट दे दिया. आनंद शर्मा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि कांग्रेस के पास उत्तर के महान नेता रहे हैं और संजय गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी, कैप्टन सतीश शर्मा से लेकर राहुल गांधी तक कांग्रेस के नेताओं को चुनने के लिए पार्टी अमेठी के लोगों की आभारी है.

राज्यसभा में पार्टी के उप नेता आनंद शर्मा ने कहा, “राहुल गांधी ने अपने किसी अनुभव के आधार पर टिप्पणी की है, मुझे किसी क्षेत्र के अपमान की बात मुझे नहीं दिखती. राहुल गांधी ही स्पष्टीकरण दे सकते हैं. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने देश को एक समझा है, हमने कभी क्षेत्र, भाषा और धर्म के आधार पर लकीर नहीं खींची.”

लेकिन ऐसा नहीं है कि सारे सीनियर कांग्रेसी राहुल से इत्तेफाक नहीं रखते. कुछ हैं जो अब भी साथ खड़े हैं. कांग्रेस नेता कमलनाथ ने कहा, ‘राहुल गांधी ने कुछ ग़लत नहीं बोला. केरल सहित दक्षिण भारत के लोग समझदार है ऐसे ही एमपी में भी लोग समझदार है. मैं भी होता तो यही बोलता उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है.

Related Articles

Back to top button