Select your Language: हिन्दी
राष्ट्रीय

केंद्र सरकार ने पंजाब सरकार को लिखी चिट्ठी, लेकिन गुस्से में किसान, जानिये क्या है वजह ?

नई दिल्ली। कृषि कानून के खिलाफ किसानों को दिल्ली के बॉर्डर पर प्रदर्शन जारी है, किसान संगठनों का कहना है कि कानून की जबतक वापसी नहीं होगी, धरना जारी रहेगा। इन सबके बीच कुछ इस तरह की जानकारी सामने आई कि किसान संगठन अपने आंदोलन को जिंदा रखने के लिए पंजाब में किसानों को ड्रग्स मुहैया करा रहे हैं। इस जानकारी के बाद किसान नेताओं का कहना है कि केंद्र सरकार उनके आंदोलन को बदनाम करने की साजिश रच रही है।

केंद्र सरकार के खत से किसान नाराज
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस संबंध में केंद्र मे एक खत लिखकर पंजाब सरकार से उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहा जो नशा देकर प्रवासी मजदूरों से लंबे समय तक काम कराते हैं। बताया जा रहा है कि बीएसएफ ने इस संबंध में केंद्र सरकार को रिपोर्ट पेश की थी। बीएसएफ ने बताया था कि 2019-20 के दौरान करीब 58 बांडेड लेबर पंजाब के सीमावर्ती जिलों में पाए गए थे जो मानसिक तौर पर रोगी नजर आ रहे थे, उन लोगों से जब पूछा गया कि वो लोग यहां क्या करने आए हैं तो सही ढंग से जवाब नहीं दे सके।

किसान आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश
इस संबंध में 17 मार्च को पंजाब के चीफ सेक्रेटरी, डीजीपी को गृह मंत्रालय की तरफ से खत भेजा गया था। यह बात अलग है कि बीकेयू डाकुंडा के महासचिव महासचिव और अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के सदस्य जगमोहन सिंह ने केंद्र पर “किसानों की छवि खराब” करने की कोशिश करने का आरोप लगाया।एनडीए के पूर्व सहयोगी, शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) ने कहा कि यह पत्र “राज्य के किसानों को बदनाम करने के उद्देश्य से हास्यास्पद धारणा पर आधारित था।

Related Articles

Back to top button