Select your Language: हिन्दी
राष्ट्रीय

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से बोले डॉ. हर्षवर्धन- आपके जैसी सोच नहीं रखते हैं कांग्रेस के बाकी नेता

नई दिल्ली I देश में कोरोना पर काबू पाए जाने के तरीकों का जिक्र करते हुए पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी थी। अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने इस चिट्ठी का जवाब देते हुए कांग्रेस के अन्य नेताओं पर निशाना साधा है। उन्होंने मनमोहन सिंह से इस चिट्ठी में कहा है कि आप टीकाकरण का महत्व समझते हैं लेकिन आपकी पार्टी के अन्य नेता शायद आपकी राय से इत्तेफाक नहीं रखते।

डॉक्टर हर्षवर्धन ने इस चिट्ठी में लिखा है, ‘यह दुखद है कि कोरोना से जंग में मनमोहन सिंह टीकाकरण की अहमियत समझते हैं लेकिन आपकी ही पार्टी में जिम्मेदार पदों पर आसीन नेता और कांग्रेस शासित राज्यों की सरकारें आपके विचारों से इत्तेफाक नहीं रखती है।’

उन्होंने लिखा है, ‘यह हैरानी भरा है कि कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने हमारे वैज्ञानिकों और वैक्सीन उत्पादकों को आभार व्यक्त करने के लिए एक शब्द तक नहीं बोला। क्या विकासशील देश होने के बावजूद दो वैक्सीन होना भारत के लिए गर्व की बात नहीं है?’

उन्होंने आगे लिखा है, कई कांग्रेस सदस्य वैक्सीन के असर को लेकर भ्रामक खबरें फैलाते रहे और लोगों के जीवन से खेलते रहे। कुछ कांग्रेस नेताओं ने सार्वजनिक तौर पर वैक्सीन की बुराई की लेकिन चुपचाप खुद टीका लगवा लिया।

मनमोहन सिंह की चिट्ठी में क्या था?
बता दें कि इससे पहले मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिख वैक्सीनेशन को तेज करने का सुझाव दिया था। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा कि महामारी को काबू करने के लिए टीकाकरण महत्वपूर्ण था। उन्होंने यह भी कहा है कि कितने लोगों को टीका लगा है, यह आंकड़ा ना देखकर हमें इस पर फोकस करना चाहिए कि आबादी के कितने फीसद लोगों को टीका लगा है। मनमोहन सिंह ने कहा कि सबसे पहले सरकार को अगले छह महीने के लिए टीकों के दिए गए ऑर्डर, किस तरह से टीके राज्यों के बीच वितरित होंगे, इस बारे में बताना चाहिए। उन्होंने कहा, ”सरकार को यह बताना चाहिए कि अलग-अलग वैक्सीन उत्पादकों को कितने ऑर्डर दिए गए हैं, जिन्होंने अगले छह महीने में डिलीवरी का वादा किया है। यदि हम लक्षित संख्या में लोगों को टीका लगाना चाहते हैं तो हमें अडवांस में पर्याप्त ऑर्डर देने चाहिए ताकि उत्पादक समय से आपूर्ति कर सकें।”

Related Articles

Back to top button