Select your Language: हिन्दी
World

क्या इजरायल में सत्ता परिवर्तन का भारत के साथ रिश्तों पर पड़ेगा असर, पढ़े पूरी खबर

इजरायल में 13वें प्रधानमंत्री नाफ्ताली बेनेट के नेतृत्व में नई सरकार का गठन हो चुका है। लेकिन 120 सीटों वाली संसद में केवल एक वोट से विश्वासमत हासिल करने वाली इस सरकार की स्थिरता को लेकर आशंकाओं के बादल मंडरा रहे हैं, क्योंकि इसमें शामिल आठों राजनीतिक पार्टियां सिर्फ बेंजामिन नेतन्याहू को सत्ता से बाहर करने के नाम पर एकजुट हुई हैं। इनमें दक्षिणपंथी, मध्यमार्गी और वामपंथी पार्टियों के अलावा पहली बार अरब मुसलमानों की एक पार्टी भी शामिल है।

यही वजह है कि नई सरकार बनने के बाद से ही पूर्व प्रधानमंत्री नेतन्याहू इसे गिराने को लेकर काफी आश्वस्त दिख रहे हैं, लेकिन वहां के राजनीतिक घटनाक्रम को लेकर भारत को बहुत चिंतित होने की जरूरत नहीं है। दोनों देशों के संबंध ऐसे मुकाम पर पहुंच चुके हैं, जहां ऐसी घटनाएं उसे प्रभावित नहीं कर सकती हैं।

अटूट हैं भारत और इजरायल के रिश्ते: इजरायल ने भारत के साथ गर्मजोशी भरा रिश्ता बनाए रखने की इच्छा जताते हुए इसे नई ऊंचाई देने का संकल्प व्यक्त किया है। दोनों देशों के रिश्तों में स्थिरता की ठोस वजहें हैं। अंतरराष्ट्रीय कूटनीति में दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है। पाकिस्तान और चीन हमारे सबसे बड़े दुश्मन हैं। खासकर पाकिस्तान का रवैया काबिलेगौर है। बदले हुए अंतरराष्ट्रीय घटनाक्रम में मुस्लिम देशों का नेतृत्व करने वाले सऊदी अरब और खाड़ी के दूसरे ताकतवर देश संयुक्त अरब अमीरात ने इजरायल की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाया है, पर इजरायल को लेकर पाकिस्तान के कट्टर दृष्टिकोण में बदलाव नहीं आया है। वह अब भी फलस्तीन के समर्थन में खड़ा है, क्योंकि वह उसे कश्मीर के साथ जोड़कर देखता है।

भारत और इजरायल हाल के वर्षो में काफी करीब आए: बहरहाल, तुर्की की विदेशी नीति में बदलाव के कारण भी भारत और इजरायल हाल के वर्षो में काफी करीब आए हैं। नाटो का सदस्य होने के कारण तुर्की के अमेरिका और उसके फलस्वरूप इजरायल के साथ बहुत अच्छे रिश्ते थे। उसे अमेरिका से उन्नत सैन्य साजो-सामान भी मिले, लेकिन हाल के वर्षो में तुर्की के राष्ट्रपति तैयप आदरेगान के रुख में नाटकीय बदलाव आया है और वह अब सऊदी अरब की जगह मुस्लिम देशों का नेतृत्व करने का सपना पाल रहे हैं। इस अभियान में पाकिस्तान उसके साथ है। भारत विरोध पर टिके पाकिस्तान को सऊदी अरब से झटके पर झटका लगने के बाद अब तुर्की में एकमात्र उम्मीद नजर आ रही है।

खाड़ी देश इस समय बदलाव के दौर से गुजर रहे: इजरायल के नजरिए से देखा जाए तो सऊदी अरब सहित खाड़ी देशों के साथ संबंध सामान्य बनाने के उसके अभियान में भारत अहम कड़ी साबित हो सकता है। परंपरागत रूप से भारत और खाड़ी देशों के रिश्ते बहुत अच्छे रहे हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शासनकाल में तो यह नई ऊंचाइयों की ओर अग्रसर है। खाड़ी के देशों को भी इजरायल से रिश्ते सामान्य करने के लिए भारत की जरूरत है। खाड़ी देश इस समय बदलाव के दौर से गुजर रहे हैं। कट्टर छवि से बाहर निकलकर उदारवादी व्यवस्था की ओर बढ़ रहे हैं। साथ ही, अपनी सुरक्षा को लेकर भी आत्मनिर्भर होना चाहते हैं, लेकिन इस काम में इजरायल सबसे बड़ा रोड़ा है।

इजरायल को मिली सामारिक बढ़त पर असर: संयुक्त अरब अमीरात अमेरिका से एफ-35 लड़ाकू विमान खरीदना चाहता है, लेकिन एक संधि से बंधे होने के कारण इजरायल की सहमति के बिना यह संभव नहीं है। दरअसल, 1973 में अमेरिका ने इजरायल को मध्यपूर्व के बाकी देशों के मुकाबले सबसे उन्नत रक्षा साजोसामान देने का समझौता किया था, जिसे वह आज तक निभा रहा है। अगर वह संयुक्त अरब अमीरात को एफ-35 की बिक्री करता है तो इजरायल को मिली सामारिक बढ़त पर असर पड़ेगा। वह कभी नहीं चाहेगा कि किसी और मुस्लिम देश की सामरिक ताकत में इजाफा हो। वह भली-भांति जानता है कि दोस्ती का हाथ बढ़ा रहे ये मुस्लिम देश कब दुश्मन खेमे में चले जाएंगे, कोई नहीं जानता। इतिहास गवाह है कि अंतरराष्ट्रीय संबंधों की गतिशीलता अजीबोगरीब मोड़ लेती रही है। तुर्की इसका सबसे ताजा उदाहरण है।

Related Articles

Back to top button