Select your Language: हिन्दी
राष्ट्रीय

कोरोना मामलो में तेज़ गिरावट जारी, देश के लिए बड़ी राहत भरी खबर

नई दिल्ली: कोरोना महमारी की रफ्तार अब धीमी पड़ गई है. नए मामलों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. देश में रोजाना 60 हजार से कम लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है. इस साल अप्रैल-मई में रोजाना संक्रमितों का आंकड़ा चार लाख तक पहुंच गया था. यानी कि वायरस का फैलाव पहले से काफी कम हुआ है. हालांकि मौत का आंकड़ा अभी भी काफी ज्यादा है. यहां जानिए, देश के लिए कोरोना से राहत की कुछ बातें-

दिल्ली, यूपी समेत 11 राज्यों में रोजाना नए मामले 300 से कम
दिल्ली, यूपी, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड, मिजोरम समेत 11 राज्य ऐसे हैं जहां कोरोना के नए मामलों में सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज की गई है. यहां अब रोजाना नए मामलों की संख्या 300 से कम हो गई है. इस गिरावट को देखते हुए ही राज्यों में अब कोरोना कर्फ्यू में ढील दी गई है और कई तरह की पाबंदियों में छूट दी गई है.

भारत से ज्यादा ब्राजील में आ रहे नए केस
ब्राजील में हर दिन भारत से भी ज्यादा नए कोरोना केस दर्ज किए जा रहे हैं और मौत का आंकड़ा भी ज्यादा है. पिछले एक हफ्ते की रिपोर्ट की बात करें तो भारत में 4.26 लाख नए केस आए जबकि ब्राजील में इस दौरान 5.13 लाख नए मामले आए. वहीं भारत में करीब नौ हजार लोगों की जान गई, जबकि ब्राजील में 14 हजार से ज्यादा संक्रमितों ने अपनी जान गंवा दी.

जिस तेजी से संक्रमण फैला, उसी तेजी से घटा भी
भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने अप्रैल-मई में सबसे ज्यादा कोहराम मचाया था. रोजाना कोरोना केस 50 हजार से 4 लाख तक पहुंचने में कुल 37 दिन का समय लगा. जबकि 4 लाख से दोबारा 50 हजार तक आने में 43 दिन का समय लगा.

कोरोना संक्रमण का फैलाव देश के कुछ हिस्से तक सीमित
कोरोना संक्रमण अब देश के कुछ हिस्से तक ही सीमित रह गया है. यहीं पर सबसे ज्यादा संक्रमण के नए मामले आ रहे हैं. रविवार को 77 फसदी (38,990) कोरोना केस सिर्फ तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र में दर्ज किए गए. बाकी 33 फीसदी केस

संक्रमण दर और एक्टिव मामलों में बड़ी गिरावट
देश में अब हर 100 में से 3 लोग ही संक्रमित पाए जा रहे हैं, एक महीने पहले ये संख्या 15 थी. वहीं देश के 90 फीसदी जिलों में एक्टिव केस लगातार कम हो रहे हैं. पिछले हफ्ते देश के 718 जिलों में से केवल 70 जिलों में एक्टिव मामलों में बढ़ोतरी देखी गई. इनमें से सिर्फ 27 जिलों में एक्टिव मामले 100 से ज्यादा दर्ज किए गए.

Related Articles

Back to top button