Select your Language: हिन्दी
Jammu Kashmir

ड्रोन हमलों को नाकाम करने की तकनीक पर काम कर रही सरकार, नेशनल टेक्निकल रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन की मदद से तैयार होगी तकनीक

हाल ही मे जम्मू कश्मीर एअरबेस पर हुवे ड्रोन हमले से भारत सरकार ने सबक लेते हुवे काउंटर ड्रोन पॉलिसी बनाने पर काम शुरू कर दिया है। मंगलवार को पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई एक हाईलेवल मीटिंग में यह फैसला लिया गया। जम्मू एयरबेस पर ड्रोन अटैक के बाद लगातार दो दिन ड्रोन एक्टिविटी के बाद बैठक में पूरे जम्मू और पंजाब इलाके में काउंटर ड्रोन सिस्टम की स्थायी तैनाती की जरूरत पर बात हुई।

बताया जा रहा है कि इस टेक्नोलॉजी को डील करने के लिए भारतीय वायुसेना नोडल एजेंसी की तरह काम करेगी। केंद्र सरकार चाहती है कि आने वाले समय में ड्रोन हमलों से निपटने की कोशिशों को एयरफोर्स को-ऑर्डिनेट करे। इस काउंटर ड्रोन से निपटने की तकनीक में देश की टेक इंटेलीजेंस एजेंसी नेशनल टेक्निकल रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन की मदद भी ली जाएगी। उधर सीमा सुरक्षा बल को भी एक ऐसा प्लेटफॉर्म मिलने वाला है जो उड़ने वाली संदिग्ध वस्तुओं या मानव रहित विमानों (यूएवी) का का पता लगाने और तेजी से रिएक्ट करने में सक्षम होगा। वहीं सेना को पहले ही आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लैस ड्रोन खरीदने की मंजूरी दे दी गई है, जिन्हें जम्मू जैसे हमलों के दौरान तैनात किया जा सकता है।

Related Articles

Back to top button