Select your Language: हिन्दी
Banking

सरकार ने SMS आने पर दी चेतावनी! अगर आपके पास भी आया ऐसा SMS तो हो जाएं अलर्ट वरना चुटकियों में खाली हो जाएगा बैंक अकाउंट

बैंक फ्रॉड को लेकर भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम या सीईआरटी-आईएन ने देश में रहने वाले सभी नागरिकों के नए घोटाले के बारे में चेतावनी जारी की है। सुरक्षा एजेंसी ने नोट किया है कि हैकर्स बैंकरों के रूप में ग्राहकों को एक नए प्रकार के फ़िशिंग हमले का शिकार बना रहे हैं। इसके लिए ठग ngrok प्लेटफॉर्म का उपयोग कर रहे हैं। उपयोगकर्ताओं की संवेदनशील जानकारी जैसे कि उनके इंटरनेट बैंकिंग क्रेडेंशियल, वन-टाइम पासवर्ड, फोन नंबर और बहुत कुछ को प्राप्त करने के लिए फ़िशिंग हमले किए जा रहे हैं। इन फ़िशिंग वेबसाइटों का उपयोग करके ठग धोखाधड़ी करने के लिए ग्राहकों की संवेदनशील जानकारी चुरा रहे हैं और उनका अकाउंट चुटकियों में खाली कर दे रहे हैं।

कैसे आप इस फ्रॉड से बच सकते हैं?
हम आपक आपको बता दें अगर SMS में लिखा आता है “प्रिय ग्राहक, आपका xxxx बैंक खाता बंद कर दिया जाएगा। इससे बचने के लिए कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर केवाईसी वेरिफिकेशन कर लें। लिंक पर क्लिक करें।” कुछ ऐसा मेसेज यूजर्स को भेजे जाते हैं। जिसपर लोग अकाउंट बंद होने के डर से उस लिंक पर क्लिक कर देते हैं ऐसे में बहुत आसानी से धोखाधड़ी करने वाले ठगी कर लेते हैं।

दरअसल जब कोई उपयोगकर्ता संदेश के साथ दिए गए URL पर क्लिक करता है और अपने इंटरनेट बैंकिंग क्रेडेंशियल का उपयोग करके फ़िशिंग वेबसाइट पर लॉग इन करता है तो इसके बाद स्कैमर ओटीपी जनरेट करता है जो यूजर्स के फोन पर डिलीवर हो जाता है। उपयोगकर्ता तब वेबसाइट पर ओटीपी दर्ज करता है, जिसे हैकर द्वारा कब्जा लिया जाता है। अंत में, हैकर ओटीपी को पकड़ लेता है और धोखाधड़ी वाले लेनदेन करने के लिए 2FA को पास कर देता है।

एडवाइजरी में सीईआरटी-इन ने यूजर्स को ऐसे ईमेल या मैसेज से बेहद सतर्क रहने को कहा है। धोखाधड़ी द्वारा भेजे गए मेसेज में, आपको एक उपयोगकर्ता आईडी नहीं बल्कि एक फ़ोन नंबर मिलेगा जो बिल्कुल भी ओरिजिनल नंबर की तरह नहीं लगेगा। फ्रॉड मेसेज में भेजना गया मेसेज आमतौर पर व्याकरण के रूप से गलत होते हैं और उचित भाषा का उपयोग करके नहीं लिखे जाते हैं। लेकिन इसके उलट कोई भी अच्छा बैंक अपने ग्राहकों को इस तरह के घटिया ढंग से तैयार किए गए संदेश कभी नहीं भेजता है। विशेष रूप से, बैंकों द्वारा वास्तव में भेजे जाने वाले संदेशों में एक यूजर आईडी होती है, जो आमतौर पर बैंक का शोर्ट नेम होता है।

Related Articles

Back to top button