Select your Language: हिन्दी
India

महंगाई ने सरकार को हिलाया, खाने के तेल पर घटाया टैक्स, कम होगी कीमत

खाने के तेलों ने इन दिनों महंगाई का रिकार्ड तोड़ डाला है जिसने आम आदमी की परेशानियों को काफी ज्यादा बढ़ा दिया है. और आने वाला समय में त्यौहार का है इसको देखते हुए केंद्र सरकार ने फेस्टिवल सीजन पर आम लोगों को राहत देने के वास्ते बड़ा कदम उठाया है. लेकिन वह भी सिर्फ पांच महीनों के लिए. सरकार ने पाम और सन फ्लॉवर ऑयल (Sunflower Oil) पर एग्री सेस (Agri Cess) और कस्टम ड्यूटी (Custom Duty) को घटा दिया है. इससे पहले उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय (Ministry of Consumer Affairs, Food and Public Distribution) ने तेल और तिलहन पर स्टॉक लिमिट लागू करने का आदेश जारी किया था. स्टॉक लिमिट 31 मार्च 2022 तक लागू रहेगी. केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने एक अधिसूचना में कहा कि शुल्क में कटौती 14 अक्टूबर से प्रभावी होगी और 31 मार्च, 2022 तक लागू रहेगी. राज्यों को कहा गया है कि आदेश जारी कर इसका सख्ती से पालन कराएं.

सरकार के इस फैसले के मुताबिक क्रूड पाम तेल पर ड्यूटी घटाकर 8.25% (पहले 24.75%) , RBD पामोलीन पर 19.25 (पहले 35.75), RBD पाम तेल पर 19.25 (पहले 35.75), क्रूड सोया तेल पर 5.5 (पहले 24.75), रिफाइंड सोया तेल पर 19.5 (पहले 35.75), क्रूड सूरजमुखी तेल पर 5.5 (पहले 24.75) और रिफाइंड सूरजमुखी तेल पर 19.25 (पहले 35.75) की गयी. ड्यूटी घटाए जाने से CPO के भाव में 14,114.27, RBD के 14526.45, सोया तेल के 19351.95 रुपए प्रति टन घटे है.
अब सरकार के इस फैसले के बाद माना जा रहा है कि खाद्य तेलों में 15 रुपये की कमी हो सकती है.

Related Articles

Back to top button