Select your Language: हिन्दी
Uttar Pradesh

मोदी की रैली के लिए काटे गए कच्ची फसल, कांग्रेस नेता ने उठाये सवाल, कहा- किसानों को बिना बताये काटे जा रहे हैं फसल

उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थित रिंग रोड ओवरब्रिज (रखौना) के किनारे मेंहदीगंज ग्राम का चयन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा के लिए किया गया है। इस दौरान जनसभा स्थल से पीएम मोदी द्वारा रिंगरोड समेत कई योजनाओं का लोकार्पण करेंगे। जिसके लिए जनसभा स्थल को तैयार करने के लिए खेतों में लगी किसानों के धान की फसल को हार्वेस्टर के जरिए काटकर जमीन को समतल किया जा रहा है। यहाँ आपको बताते चलें कि सेवापुरी विधानसभा में ही पीएम मोदी ने दूसरा गांव ‘नागेपुर’ गोद लिया था। यह गांव उसी ग्राम के बगल में है, जहां पीएम मोदी की जनसभा का कार्यक्रम होना है। जिसके लिए इस स्थान पर किसानों के कच्ची फसल को कटा जा रहा है.

लेकिन अब यह मामला तूल पकड़ता दिखाई दे रहा है, प्रधानमंत्री की रैली से पहले कच्ची फसल काटे जाने का मामला एक तरफ प्रशासन का दावा है कि मुआवजा तय होने बाद ही खेतों में हार्वेस्टर चलाया जा रहा है तो वहीं कांग्रेस नेता का दावा है कि किसानों को बिना किसी पूर्व सूचना के फसल काटे जाने का काम हो रहा है। कांग्रेस के नेता अजय रात ने खेतों में चल रहे हार्वेस्टर का एक वीडियो साझा करते हुए लिखा कि कहीं किसान कट रहा है तो कहीं उसकी फसल, उन्होंने कहा कि काशी की पवित्र धरती पर खड़ी फसल को नरेंद्र मोदी सिर्फ इसलिए कटवा रहे हैं कि उन्हें मंच से खड़े होकर देश और प्रदेश को झूठे जुमले की सौगात देनी है। राय ने सुझाव देते हुए कहा कि बेहतर होगा नरेंद्र मोदी, अपनी चुनावी सभा का स्थल बदल कर एक और अन्याय करने से बचें।


लेकिन वाराणसी के जिलाधिकारी द्वारा कांग्रेस नेता की इस ट्वीट पर जवाब दिया गया है। उन्होंने लिखा कि रिंग रोड के बड़े कार्य का शुभारंभ उसी स्थल पर करने के लिए फसल का पर्याप्त मुआवजा दे कर सहमति से ही भूमि 10-12 दिन के लिए ली जा रही है। उन्होंने कहा कि रिंग रोड का फायदा लाखों लोगों को प्रत्यक्ष रूप से होगा।

Related Articles

Back to top button