Select your Language: हिन्दी
India

रेलवे ने सफ़र तो किया सस्ता, लेकिन सुविधाओं में की कटौती

रेलवे ने रेल में सफ़र करने वालों को राहत दी है इसके लिए उसने रेल के किराए को 30 फीसदी तक कम करने का फैसला किया है जिससे रेल यात्रियों को बड़ी राहत मिलेगी। यह निश्चित ही रेल से सफर करने वाले करोड़ों यात्रियों के लिए अच्छी खबर है।

लेकिन रेल यात्रियों को जो सुविधाएं पहले मिला करती थी अब पूर्व में मिलने वाली कई सारी सुविधाएं बंद कर दी गयी हैं । यात्रियों की मिलने वाली विशेष छूट भी बंद कर दी गई है। इससे पहले रेल किराए में वरिष्ठ नागरिकों को जो छूट दी जाती थी वह भी अब बंद कर दिया गया है और आगे भी बंद रहेगी। इसमे रेलवे का तर्क है कि संचालन ठप होने से हुए नुकसान को पूरा करने के लिए रेलवे ने किराए में दी जाने वाली रियायतें खत्म कर दी थीं। इसके अलावा साथ ही जनरल टिकट वाला सिस्टम भी खत्म होने जा रहा है। अब सिर्फ रिजर्व और वेटिंग टिकट वालों को ही यात्रा करने की अनुमति रहेगी।

रेल मंत्रालय ने सर्कुलर जारी करते हुवे कहा है कि कोरोना के समय में शुरू किये गए स्पेशल ट्रेनों का परिचालन बंद करने का फैसला किया है जिसके जगह पर अब पहले की ही तरह नियमित ट्रेनों को बहाल किया जाएगा। इससे यात्रियों को किराए पर राहत मिलेगी। कोरोना काल में यात्रियों को सफर के लिए 30 फीसदी ज्यादा किराया देना पड़ रहा था। मेल/एक्सप्रेस स्पेशल और हॉलिडे स्पेशल ट्रेनों की सेवा अब रेग्युलर ट्रेनों के जैसी होगी। ये ट्रेनें फिर से रेग्युलर नंबर के साथ दौड़ेंगी। साथ ही स्पेशल किराया भी अब नहीं लिया जाएगा। रेल मंत्रालय ने सर्कुलर में कहा कि अगले कुछ दिनों में रेग्युलर ट्रेनों का परिचालन लागू हो जाएगा।

कोविड-19 महामारी के कारण देश में 25 मार्च 2020 से ट्रेन सेवा अस्थाई तौर पर रोक दी गई थी। रेलवे के 166 साल के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ। हालांकि इस दौरान ट्रेन से माल की आवाजाही चालू रही, केवल यात्री ट्रेनें बंद हुईं। इसके बाद मई 2020 से पहले श्रमिक स्पेशल ट्रेनों और बाद में स्पेशल ट्रेनों के रूप में भारतीय रेल ने फिर से दौड़ना शुरू किया। रेगुलर ट्रेनों के नंबर में बदलाव कर उन्हें स्पेशल ट्रेनों के रूप में संचालित किया गया। इन ट्रेनों में नॉर्मल से 30% ज्यादा किराया वसूला जा रहा था।

Related Articles

Back to top button