Select your Language: हिन्दी
India

कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के दबाव में निकली पाकिस्तान की हेकड़ी, दी सबसे बड़ी राहत

अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के दबाव के चलते कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान की हेकड़ी सीधी हो गयी है. जिसके चलते उसने जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को बड़ी राहत दी है। जिसके बाद अब अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के निर्णय के अनुसार कुलभूषण जाधव को अपील करने का अधिकार देने के लिए पाकिस्तान की संसद की संयुक्त बैठक में एक विधेयक पारित किया गया है। अब कुलभूषण जाधव उच्च अदालतों में अपनी सजा के खिलाफ अपील कर पाएंगे।

गौरतलब है कि कुलभूषण जाधव को 3 मार्च 2016 को बलूचिस्तान प्रांत से गिरफ्तार किया गया था। पाकिस्तान सरकार का आरोप है कि कुलभूषण जाधव पूर्व भारतीय नौसैनिक हैं और पाकिस्तान में कई खतरनाक गतिविधियों में शामिल थे। भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी 50 वर्षीय जाधव को अप्रैल 2017 में पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जासूसी और आतंकवाद का दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनाई थी। इसके बाद भारत ने अंतरराष्ट्रीय अदालत का रुख किया था और पाकिस्तान द्वारा राजनयिक पहुंच नहीं दिए जाने और मौत की सजा को चुनौती दी थी।

इसपर भारत सरकार ने कहा है कि कुलभूषण जाधव पूर्व नौसैनिक है जो नैसेना से रिटायरमेंट ले चुके हैं। और जब उन्हें पाकिस्तान ने अगवा किया तब वे एक व्यापारी की हैसियत से ईरान गए थे जहां उन्हे पाकिस्तान ने अगवा कर लिया।

कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान कोर्ट ने 10 अप्रैल 2017 को फांसी की सजा सुनाई थी। 18 मई 2017 को इंटरनैशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान के इस फैसले पर रोक लगा दी। हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत ने जुलाई 2019 में दिए फैसले में कहा था कि पाकिस्तान जाधव को दोषी ठहराने के फैसले और सजा की ‘प्रभावी तरीके से समीक्षा और पुनर्विचार करे’ और साथ ही बिना देरी के भारत को राजनयिक पहुंच दे। अंतरराष्ट्रीय अदालत ने अपने फैसले में कहा था कि पाकिस्तान जाधव को सैन्य अदालत के फैसले के खिलाफ अपील करने के लिए उचित मंच मुहैया कराए।

Related Articles

Back to top button