Select your Language: हिन्दी
India

गुलशन कुमार के मर्डर केस में फंसे नदीम ने कहा मुझे फसाया जा रहा है, भारत आकर बेगुनाही साबित करना चाहता हूं’

12 अगस्त 1997 को मुंबई के साउथ अंधेरी इलाके में स्थित जीतेश्वर महादेव मंदिर के बाहर गोली मारकर गुलशन की हत्या कर दी गई थी। जिसमे नदीम का नाम सामने आया था. इस केस में म्यूजिक कंपोजर नदीम सैफी पर आरोप लगा था कि उन्होंने गुलशन कुमार की हत्या की प्लानिंग करवाई थी। केस में नाम सामने के बाद नदीम इंग्लैंड भाग गए। 2002 में एक भारतीय कोर्ट ने सबूत ना होने की वजह से उनके खिलाफ हत्या में शामिल होने के केस को रद्द कर दिया गया लेकिन उनकी गिरफ्तारी के वारंट को वापस नहीं लिया गया जिसके कारण नदीम आज भी परेशान हैं। एक इंटरव्यू में नदीम ने इस केस को लेकर कुछ बातें कही हैं।

लेकिन अब गुलशन कुमार हत्याकांड एक बार फिर चर्चा में है। टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में नदीम बोले, ‘शुरुआत में मुझे लगा था कि ये गलतफहमी है जो जल्द दूर हो जाएगी लेकिन किसी ने नहीं सोचा था कि सब कुछ इतने बुरे मोड़ पर आ जाएगा। पापाजी(गुलशन ग्रोवर)के लिए मैं छोटे भाई के समान था। वह मुझे बेहद प्यार करते थे। मैं इंडिया वापस आना चाहता हूं ताकि अपने आपको बेकसूर साबित कर सकूं। मैंने बेवजह का वनवास भोगा है।जिस व्यक्ति ने इंडिया और एशियाई लोगों का इतना मनोरंजन किया हो, उसके साथ इतना बड़ा अन्याय हुआ है।’

इंटरव्यू में जब नदीम से पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है कि उन्हें इस केस में फंसाया गया है तो वो बोले, ‘बिलकुल, मुझे फंसाने के लिए षड़यंत्र रचा गया। यूके हाई कोर्ट, यूके सुप्रीम कोर्ट, द हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स और यहां तक कि सेशन कोर्ट जज जस्टिस एमएल तहिलयानी ने कंफर्म कर दिया था कि मेरे खिलाफ कोई सबूत नहीं है। मेरे साथ बहुत नाइंसाफी हुई है। कानून में मेरा भरोसा है।’

Related Articles

Back to top button