Select your Language: हिन्दी
Environment

इलेक्ट्रिक वाहन को लेकर नितिन गडकरी ने दिया बड़ा संकेत, भविष्य में सस्ती होंगी इलेक्ट्रिक गाड़ियां

देश के केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी जिन्हें अपने वादे का पक्का मना जाता है उन्होंने एलान करते हो कहा है कि देश में जल्द ही इलेक्ट्रिक गाडियों का कीमत और पेट्रोल गाड़ियों की कीमत एक हो जाएगी.नितिन गडकरी का मानना ​​है कि सस्ती प्रति किलोमीटर लागत के कारण भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों की काफी बिक्री होगी. नितिन गडकरी का मानना ​​है कि सस्ती प्रति किलोमीटर लागत के कारण भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों की काफी बिक्री होगी.

देश भर में इन दिनों इलेक्ट्रिक गाड़ियों की धूम है. लगातार नई इलेक्ट्रिक कार और स्कूटर लॉन्च किए जा रहे हैं. लोग अब पेट्रोल और डीज़ल की बढ़ती कीमतों के बीच इलेक्ट्रिक गाड़ियों को खरीदने में खासी दिलचस्पी भी दिखा रहे हैं. लेकिन कई लोग भारी-भरकम कीमतों के चलते फिलहाल इलेक्ट्रिक गाड़ियां खरीदने से कतरा रहे हैं. लेकिन अब ऐसे लोगों के लिए अच्छी खबर है. केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि अगले दो साल में इलेक्ट्रिक और पेट्रोल गाड़ियों की कीमत एक हो जाएगी. गडकरी का कहना है कि जल्द ही इस क्षेत्र में क्रांति आने वाली है.

मिनिस्टर ने इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स और FY21 एजीएम के सालाना सत्र को संबोधित करते हुए कहा, ‘दो साल के अंदर, इलेक्ट्रिक व्हीकल की लागत उस स्तर पर आ जाएगी जो उनके पेट्रोल वेरिएंट के बराबर होगी.’ आगे उन्होंने कहा कि सरकार ईवी चार्जिंग सुविधाओं का विस्तार करने के लिए काम कर रही है. गडकरी ने आगे कहा, ‘हम 2023 तक प्रमुख राजमार्गों पर 600 ईवी चार्जिंग पॉइंट स्थापित कर रहे हैं. सरकार ये भी सुनिश्चित करना चाहती है कि चार्जिंग स्टेशन सौर या पवन बिजली जैसे नवीकरणीय स्रोतों से संचालित हों.’

केन्द्रीय मंत्री गडकरी का ये भी मानना ​​है कि सस्ती प्रति किलोमीटर लागत के कारण भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों की काफी बिक्री होगी. गडकरी ने कहा, ‘पेट्रोल से चलने वाली कार की कीमत प्रति किलोमीटर 10 रुपये, डीजल की कीमत 7 रुपये प्रति किलोमीटर और बिजली की कीमत सिर्फ 1 रुपये प्रति किलोमीटर है.’ मंत्री ने गैसोलीन और डीजल जैसे पारंपरिक ईंधन पर निर्भरता कम करने के लिए इथेनॉल और सीएनजी जैसे वैकल्पिक ईंधन के उपयोग पर जोर दिया.’

Related Articles

Back to top button