Select your Language: हिन्दी
Bihar

बिहार में अररिया जिले की अदालत ने कायम कि मिसाल, एक ही दिन में गवाही, बहस फिर फैसला…

आज जहाँ एक तरफ देश की हर अदालतों में मुकदमों के लंबी लाइन लगी हुई है सारी अदालतें इस मुकदमो से दबी हुई हैं। देश के हर कोर्ट में लंबित मुकदमों की भरमार है। फाइलें हर महीने सुनवाई के लिए आ रही हैं। तारीख पर तारीख जैसे हमारी न्याय व्यवस्था की पहचान बन गई है। वहीं अगर एक ऐसी आये की एक अदालत ऐसी भी है जिसने एक ही दिन में गवाही, बहस और फैसला सब कर दिया तो आप क्या कहेंगे।

जीहाँ ये बिल्कुल सच है। बिहार में अररिया जिले की एक अदालत ने एक दिन में फैसला सुनाकर पूरे देश के लिए मिसाल पेश की है। बिहार के जिला अदालत में पॉक्सो एक्ट के लिए बनी स्पेशल कोर्ट के न्यायाधीश शशिकांत राय ने पॉक्सो एक्ट के तहत दर्ज मामले में सुनवाई करते हुए एक ही दिन में गवाही सुनने और बहस के बाद आरोपी को दोषी ठहराते हुए आजीवन कारावास की सजा सुना दी है।

यह के इस प्रकार से था कि अररिया के नरपतगंज थाने में इसी साल की 23 जुलाई को एक नाबालिग के साथ रेप का केस दर्ज किया गया था। केस की इन्वेस्टिगेटिव ऑफिसर रीता कुमारी ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया और 18 सितंबर को कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी। इस केस में जज शशिकांत राय की अदालत ने 20 सितंबर को संज्ञान लिया और 24 सितंबर को आरोप तय कर दिए। आरोप तय करने के बाद बाद पॉक्सो कोर्ट के विशेष न्यायाधीश शशिकांत राय ने एक ही तारीख में सुनवाई करते हुए कुल 10 गवाहों की गवाही सुनी और उसी दिन आरोपी दिलीप यादव को दोषी करार देते हुए उम्रकैद और 50 हजार जुर्माने की सजा सुनाई। इस दौरान कोर्ट ने सरकार को पीड़िता को 7 लाख रुपये मुआवजा देने का आदेश भी दिया।
अदालत के इस फैसले की चर्चा अब सब जगह हो रही है।

Related Articles

Back to top button